Lehren

मेहबूब खान ने कैसे बचाया था अपना स्टूडियो

मशहूर निर्माता निर्देशक मेहबूब खान ने हिंदी सिनेमा को कई क्लासिकल फिल्में दी हैं. इनमें अनमोल घड़ी.आन.अमर.अंदाज. और मदर इंडिया जैसी फिल्में शामिल हैं.

Mehboob Khan मेहबूब खान ने कैसे बचाया था अपना स्टूडियो Source : Press

मशहूर निर्माता निर्देशक मेहबूब खान ने 40.50.और 60 के दशक में हिंदी सिनेमा को कई क्लासिकल फिल्में दी हैं. इनमें अनमोल घड़ी. आन .अमर. अंदाज.और मदर इंडिया जैसी फिल्में शामिल हैं. मेहबूब खान ने जहां कई सुपर स्टार्स हिंदी सिनेमा को दिए वहीं उनकी फिल्में हमेशा सामाजिक समस्याओं को परदे पर पेश करती थी. 40 के दशक में मेहबूब खान ने फिल्म औरत बनाई थी. जिसके लिए उन्हे काफी सराहना भी मिली थी. मेहबूब खान वैसे तो हीरो बनना चाहते थे लेकिन कामयाब नहीं हुए. बाद में मेहबूब प्रोडक्शन के बैनर तले फिल्मों का निर्माण करने लगे. और मेहबूब स्टूडियो की भी स्थापना मुंबई के बांद्रा इलाके में की.जहां आज भी फिल्मों की शूटिंग होती रहती है. 1947 में जब भारत पाकिस्तान का बटवारा हुआ तो कईयों की तरह मेहबूब खान भी पाकिस्तान चले गए.मेहबूब खान के पाकिस्तान चले जाने के बाद उनकी प्रॉपर्टी यहां तक की मेहबूब स्टूडियों पर भी भारत सरकार ने कब्जा कर लिया. मेहबूब खान को पाकिस्तान रास नहीं आया और कुछ समय के बाद वो भारत वापस आ गए. वापस आने पर उन्हे पता चलता है कि उनकी कई प्रॉपर्टी समेत स्टूडियों भी सरकार ने हथिया लिए हैं. ऐसे में मेहबूब खान फिल्म इंडिया मैगजीन के संपादक बाबूराव पटेल के पास गए. और उनसे सारी दास्तान सुनाई.बाबूराव पटेल की पहुच उस समय महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री रहे मोरारजी देसाई तक थी. और कई आईएएस अफसरों को वो जानते थे.फिर बाबूराव पटेल की कोशिशों की वजह से मेहबूब खान को उनका ना सिर्फ स्टूडियों वापस मिला बल्कि सारे कागजात भी मेहबूब खान को वापस मिल गए. बाबूराव पटेल के इस ऐहसान को मेहबूब खान सारी जिंदगी मानते रहे. बाद में अपने बैनर तले मेहबूब खान ने हिंदी सिनेमा को कई क्लासिकल फिल्मों की निर्माण किया

Loading...

You may also like