Lehren
पैडमैन मूवी रिव्यू

पैडमैन मूवी रिव्यू

CRITIC'S RATING    3.0/5
AVG READERS' RATING:    0.0/5
Movie Name
पैडमैन
DIRECTION
आर बाल्की
GENRE
ड्रामा, बायोग्राफी
DURATION
02 hours 20 minutes

पैडमैन Review


पैडमैन को देख हमे एक बार फिर से याद आ जाती है टॉयलेट एक प्रेम कथा की जहा एक पति गांव में टॉयलेट बनवाना चाहता है और यहाँ और यहाँ सैनिटरी पैड की जगह किसी भी कपडे का इस्तेमाल करने का विरोध करता है।

लेकिन इस बार लक्ष्मी याने की पति काफी स्मार्ट और होशियार है जोकि अपने हाथो से ही सुधर लाने की कोशिश में लग जाता है। जब लक्ष्मी की बीवी गायत्री का वो समय आता है तब लक्ष्मी के दिमाग में आता है इसके लिए कुछ करने का ख्याल। लक्ष्मी क जूनून बदलाव लाने का जहा वो हर जगह घूम घूम के लड़कियों महिलाओ को अपने हाथो से बने पैड का इस्तेमाल करने को कहता है। लक्ष्मी की ये हरकत परिवार समाज के बिच शर्मनाक कहलाती है, जिसके चलते लक्ष्मी का बहिस्कार होने लगता है।
बाजार में मिल रहे पैड्स काफी महंगे होते है और एक साधारण गांव की महिला को उसे लाना मतलब जैसे घर में कोई जेवर लाए हो और तभी ही आता है लक्ष्मी के दिमाग में कुछ अलग करने का ख्याल। र बाल्की ने अरुणाचलम मुरगनाथम की असल ज़िन्दगी के काफी किस्से फ़िल्मी ढांचे में बन दिए है फिर वो अपनी पत्नी से तलाक नोटिस का किस्सा हो या फिर खुद पेड़ पहन चेक करने का।

कुछ लोगो को ये कहानी हास्यपद लग सकती है लकिन जब आपको पता हो की ये आपके देश के ही व्यक्ति ने असल में इसे कर दिखाया है तो उन्हें दिल से सलाम करने को चाहता है। हलहाकि फिल्म के हिसाब से काफी बदलाव किये गए है जहा तबला प्लेयर परी याने की सोनम कपूर को पैड चाहिए होता है और वो लक्ष्मी से मिलती है जिसके जेब में एक पैड होता है और वो सोनम याने की पारी को दे देते है और यही से कहानी शुरू होती है लक्ष्मी की नाम और शौहरत की कहानी।

आज से तेरी गाना दिल को छू लेता है। वही अक्षय एक बार फिर अपनी एक्टिंग से सबका दिल छू लेते है तो वही राधिका अक्षय की बीवी और सोनम कपूर भी अपनी अर्बन लुक का किरदार बखूबी निभाते है।


Analysis

    Direction
    3.5/5
  • Dialogues
    3/5
  • Story
    4/5
  • Music
    3/5
  • Screen Play
    3/5

The Verdict

ये एक ऐसी कहानी है जो सभी को एक बार तो जरूर देखनी चाहिए जो हमारे समाज की मानसिकता बदलने के लिए सहायक साईट होगी। साथ ही ये पिछड़े इलाको और गावो में एक रोज़गार का जरिया भी है। अगर ये फिल्म उन तक पहुँच जाये जिनके लिए बनायीं गयी है तो ये एक बड़ी उपलब्धि होगी। हम इसे देते है ३ स्टार

Share


 

In Theaters Now

Namaste England
Badhaai Ho
First Man
More +

Upcoming Movies

More +