नीता अंबानी के लिए बसों में सफर करते थे मुकेश अंबानी

धीरूभाई ने फिर नीता और उनके परिवार को डिनर के लिए बुलाया, जब वो वहां पहुंचे धीरूभाई ने अपने बेटे मुकेश को दरवाजा खोलने को कहा. जब मुकेश ने दरवाज़ा खोला वो नीता को देखते ही उन्हें अपना दिल दे बैठे. इसके बाद दोनों एक दूसरे से मिलने लगे और जानने समझने लगे. नीता और मुकेश अंबानी महंगी मर्सडीज कार छोड़ कर डबल डेकर बस में सफर करते थे.

नीता अंबानी के लिए बसों में सफर करते थे मुकेश अंबानी नीता अंबानी के लिए बसों में सफर करते थे मुकेश अंबानी Source : Press

भारत के सबसे अमीर खानदान मुकेश अंबानी और नीता अंबानी के बारे में हर कोई जानना चाहता है. आज उनके जन्मदिन के मौके पर जानते है उनके ज़िन्दगी से जुड़े कुछ किस्से. मुकेश और नीता अंबानी की शादी 1985 में हुई थी. शादी से पहले दोनों ने एक दूसरे को डेट किया था. आपको बता दे, मुकेश से पहले उनके पिता धीरूभाई ने नीता को पसंद किया था. 


इस बारे में एक इंटरव्यू में नीता ने बताते हुए कहा था की, 'गुजराती कम्युनिटी की तरफ से नवरात्रि पर एक एनुअल फंक्शन था . मैंने उस फंक्शन में परफॉर्म किया . मुझे बिल्कुल अंदाजा नहीं था कि कोई मुझे नोटिस कर रहा है . फंक्शन के कुछ दिन बाद घर पर कॉल आई. उन्होंने कहा मैं धीरूभाई अंबानी बोल रहा हूं. '


उन्होंने ने आगे कहा की, 'मुझे लगा कोई मजाक कर रहा है . मैंने तुरंत फोन काट दिया. इसके बाद फिर कॉल आई. फिर वो बोले मैं धीरूभाई अंबानी बोल रहा हूं. मैंने कहा- हां तो मैं एलिजाबेथ टायलर हूं और फोन रख दिया. उन्होंने तीसरी बार भी कॉल किया. इस बार मेरे पापा ने फोन उठाया. अचानक उनके हाव-भाव बदल गए और उन्होंने मुझसे कहा कि वो सच में धीरूभाई अंबानी हैं क्या तुम उनसे ठीक से बात करोगी. 

'उन्होंने मुझे अपने ऑफिस में मिलने के लिए बुलाया. मैं उनसे मिलने से पहले काफी नर्वस थी. मैं उनसे मिली और बहुत प्रभावित हुई. मुझे वो बहुत सरल स्वभाव के लगे. उन्होंने मुझे अपने घर पर डिनर के लिए बुलाया'.

धीरूभाई ने फिर नीता और उनके परिवार को डिनर के लिए बुलाया, जब वो वहां पहुंचे धीरूभाई ने अपने बेटे मुकेश को दरवाजा खोलने को कहा. जब मुकेश ने दरवाज़ा खोला वो नीता को देखते ही उन्हें अपना दिल दे बैठे. इसके बाद दोनों एक दूसरे से मिलने लगे और जानने समझने लगे. नीता और मुकेश अंबानी महंगी मर्सडीज कार छोड़ कर डबल डेकर बस में सफर करते थे.