ब्रिटिशर्स के खिलाफ भड़काऊ भाषण देने पर जेल भी जा जुके है दिलीप कुमार

ट्रेजेडी किंग के नाम से पहचाने जाने वाले सुपरस्टार दिलीप कुमार भी जेल जा जुके हैं. दरहसल हुआ यूँ था की अपने जवानी के दिनों में दिलीप कुमार ने एक क्लब में दिए गए अपने भाषण में कहा था कि अंग्रेज़ों के खिलाफ आजादी कि लड़ाई जायज है और हिंदुस्तान में पैदा होने वाले हर मुसीबत कि वजह ब्रिटिश हुकूमत है.

Dilip Kumar Jail ब्रिटिशर्स के खिलाफ भड़काऊ भाषण देने पर जेल भी जा जुके है दिलीप कुमार

ट्रेजेडी किंग के नाम से पहचाने जाने वाले सुपरस्टार दिलीप कुमार भी जेल जा जुके हैं. दरहसल हुआ यूँ था की अपने जवानी के दिनों में दिलीप कुमार ने एक क्लब में दिए गए अपने भाषण में कहा था कि अंग्रेज़ों के खिलाफ आजादी कि लड़ाई जायज है और हिंदुस्तान में पैदा होने वाले हर मुसीबत कि वजह ब्रिटिश हुकूमत है.

 दिलीप कुमार के इस भासन के बाद लोगों ने उनकी वाह-वाही तोह बोहोत कि तालियां भी बजी लेकिन कुछ ही देर में वहां पुलिस आ गयी और ब्रिटिश सरकार के खिलाफ भड़काऊ भाषण देने के चलते दिलीप कुमार को गिरफ्तार कर लिया गया.

 उन्हें पुणे के यरवदा जेल में बाकी अन्य कैदियों के साथ बंद कर दिया गया. वहां मौजूद सभी कैदी सत्याग्रही थी कर उन्ही से दिलीप कुमार को पता चला कि उस जेल में सरदार वल्लभ भाई पटेल भी बंद है. सारे सत्याग्रही भूक हड़ताल कर रहे थे फिर क्या दिलीप कुमार ने भी उनका साथ देनी कि सोची और भूख हड़ताल में शामिल हो गए.

दिलीप साहब बड़ा ही अच्छा क्रिकेट खेलते थे लिहाजा वह एक बेहतरीन क्रिकेटर बनना चाहते थे, इसी बिच वह कारोबार के सिलसले में मुंबई रहने लगे. मुंबई आने के बाद क्रिकेड ही उनका जूनून बन गया था वह दिन रात सिर्फ क्रिकेट का सपना देखते थे. अभिनय करना तोह दूर दूर तक उनके जेहन में नहीं था, स्वभाव से बेहद ही शर्मीले किस्म के इंसान थे. आपको बता दे, दिलीप कुमार के फ़िल्मी करियर कि शुरआत १९४३ में हुयी. 

दरहसल, वह एक इंटरव्यू के सिलसले में मुंबई के जाने माने स्टूडियो बॉम्बे टॉकीज पहुंचे थे. बॉम्बे टॉकीज की ओनर देविका रानी की नज़र उनपर पड़ी, देविका ने उन्हें देखते ही पूछा एक्टिंग करोगे इसके जवाब में दिलीप कुमार ने कहा की मुझे एक्टिंग नहीं आती, देविका ने कहा सिख जाओगे. इस तरह दिलीप कुमार ने फिल्मों की दुनिया में अपना पहला कदम रखा और ही कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा.