योगी आदित्यनाथ सरकार की बूचड़खानों पर कार्रवाई के बाद बिहार सरकार भी जागी, कई बूचड़खानों पर लगाए ताल

खबरों के मुताबिक रोहतास जिले के सात अवैध बूचड़खानों को बंद कर उन्हें प्रशासन ने सील कर दिया है. इससे पहले पटना हाइकोर्ट ने यह निर्देश दिया था कि रोहतास जिले में चलने वाले सभी अवैध और गैरकानूनी बूचड़खानों को 6 सप्ताह के भीतर बंद कर दिया जाए

योगी आदित्यनाथ योगी आदित्यनाथ सरकार की बूचड़खानों पर कार्रवाई के बाद बिहार सरकार भी जागी,कई बूचड़खानों पर लगाए ताले Source : Press

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की राह पर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश सरकार ने भी कदम बढ़ाना शुरू कर दिया है. तभी तो देखिए ना यूपी में योगी सरकार द्वारा अवैध बूचड़खानों को बंद कराने की मुहिम का असर अब बिहार में भी दिखने लगा है.

और ये इसी का नतीजा है कि बिहार सरकार ने रातों-रात रोहतास जिले में कानून को ताक पर रखकर चलाए जा रहे सात अवैध बूचड़खानों को बंद कराने का फरमान जारी कर दिया है. खबरों के मुताबिक रोहतास जिले के सात अवैध बूचड़खानों को बंद कर उन्हें प्रशासन ने सील कर दिया है. इससे पहले पटना हाइकोर्ट ने यह निर्देश दिया था कि रोहतास जिले में चलने वाले सभी अवैध और गैरकानूनी बूचड़खानों को 6 सप्ताह के भीतर बंद कर दिया जाए. खबरों की मानें, तो 31 मार्च तक लाइसेंस नवीनीकरण नहीं होने की वजह से जिला प्रशासन ने 7 अवैध बूचड़खानों को सील कर दिया है.

बताया जा रहा है कि बिहार में मुख्य विपक्षी दल बीजेपी ने सरकार पर यह दबाव बनाया था कि यूपी की तर्ज पर बिहार के अवैध बूचड़खानों को तुरंत बंद कराया जाये. बीजेपी ने बूचड़खानों के लाइसेंस को रद्द करने की भी बात कही थी. इस मसले पर विधानसभा की कार्रवाई के दौरान विरोधी दल के नेता प्रेम कुमार ने यहां तक कहा था कि यदि बिहार में नीतीश सरकार अवैध बूचड़खानों के खिलाफ कार्रवाई नहीं करती है तो बीजेपी सदन से लेकर सड़क तक बड़ा आंदोलन करेगी.