Lehren

दिवाली पर फोड़ना चाहते है पटाखे तो जानले सुप्रीम कोर्ट की ये शर्तें

दिवाली से पहले पटाखों की बिक्री को लेकर आज सुप्रीम कोर्ट ने अहम फैसला सुनाया। सुप्रीम कोर्ट ने देश में कुछ शर्तो के साथ पटाखा बिक्री को मंजूरी दे दी है। कोर्ट ने कहा है कि कोशिश की जाए कि कम प्रदूषण वाले पटाखों का इस्तेमाल हो ताकि पर्यावरण को कोई नुकसान ना पहुंच पाए और केवल लाइसेंस धारक दुकानदार ही पटाखे बेच पाएंगे। पटाखा बिक्री को लेकर सुप्रीम कोर्ट की कुछ शर्तें है।

दिवाली दिवाली पर फोड़ना चाहते है पटाखे तो जानले सुप्रीम कोर्ट की ये शर्तें Source : Press


दिवाली से पहले पटाखों की बिक्री को लेकर आज सुप्रीम कोर्ट ने अहम फैसला सुनाया। सुप्रीम कोर्ट ने देश में कुछ शर्तो के साथ पटाखा बिक्री को मंजूरी दे दी है। कोर्ट ने कहा है कि कोशिश की जाए कि कम प्रदूषण वाले पटाखों का इस्तेमाल हो ताकि पर्यावरण को कोई नुकसान ना पहुंच पाए और केवल लाइसेंस धारक दुकानदार ही पटाखे बेच पाएंगे। पटाखा बिक्री को लेकर सुप्रीम कोर्ट की कुछ शर्तें है।

सुप्रीम कोर्ट के अनुसार, दिवाली पर लोग रात 8 बजे से 10 बजे तक, क्रिसमस और न्यू ईयर पर रात 11.45 बजे से 12.15 बजे तक ही पटाखे बजा पाएंगे। इसके अलावा कोई भी विक्रेता ऑनलाइन पटाखे नहीं बेच पाएगा। और पटाखा बनाने की फैक्ट्री की जांच करे प्रशासन और सुनिश्चित करे कि पटाखा बनाने में हानिकारक केमिकल का इस्‍तेमाल न हो। सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि तेज आवाज वाले पटाखों को न जलाया जाए।

अगर किसी इलाके में प्रतिबंधित पटाखों की बिक्री होती है तो इसका जिम्मेदार संबंधित पुलिस थाने का एसएचओ होगा। जस्टिस एके सीकरी और जस्टिस अशोक भूषण की पीठ ने केंद्र और राज्यों से कहा कि वे सामुदायिक आतिशबाजी को बढ़ावा देने के तरीके तलाशें ताकि ज्यादा प्रदूषण ना हो। केंद्र और राज्य के प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड दीपावली से सात दिन पहले और सात दिन बाद तक प्रदूषण का स्तर देखें और उसे रेगुलेट करें।

सुप्रीम कोर्ट ने याचिकाकर्ताओं, पटाखा निर्माताओं और केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की दलीलें सुनने के बाद 28 अगस्त को फैसला सुरक्षित रखा था।तमिलनाडु सरकार, पटाखा विक्रेताओं और निर्माताओं ने कहा था कि ठंड के महीनों में प्रदूषण कई वजहों से होता है और बिना किसी सटीक अध्ययन के इसके लिए पटाखों को ज़िम्मेदार ठहराना गलत है और पटाखों की गुणवत्ता सुधारने पर काम होने चाहिए।


Loading...