Lehren

अमृतसर हादसा: 100 किलो मीटर की रफ़्तार से आ रही ट्रैन ने 60 लोगो की जान छीन ली

दशहरा के मौके पर पंजाब के अमृतसर पर एक बड़ा हादसा हुआ। जालंधर से अमृतसर जा रही ट्रेन की चपेट में आने से 60 लोगों की मौत हो गई। मारे गए लोग हादसे के समय ट्रेन की पटरियों पर खड़े होकर रावण दहन देख रहे थे। वहीं इस हादसे में 72 से ज्यादा लोगों के घायल होने की खबर है।

अमृतसर हादसा अमृतसर हादसा: 100 किलो मीटर की रफ़्तार से आ रही ट्रैन ने 60 लोगो की जान छीन ली Source : Press


दशहरा के मौके पर पंजाब के अमृतसर पर एक बड़ा हादसा हुआ। जालंधर से अमृतसर जा रही ट्रेन की चपेट में आने से 60 लोगों की मौत हो गई। मारे गए लोग हादसे के समय ट्रेन की पटरियों पर खड़े होकर रावण दहन देख रहे थे। वहीं इस हादसे में 72 से ज्यादा लोगों के घायल होने की खबर है।

घटनास्थल पर सन्नाटा पसरा हुआ है। शुक्रवार शाम यह हादसा अमृतसर में जोड़ा फाटक के नजदीक हुआ जहां रेलवे ट्रैक के किनारे रावण दहन का कार्यक्रम चल रहा था। इस दौरान वहां हजारों लोग वहा इक्कठा हुए थे तभी पटाखों की आवाज आई तो लोग भागने लगे और उन्हें ट्रेन की आवाज नहीं सुनाई दी। इस दौरान जालंधर से अमृतसर जा रही ट्रेन 100 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से आई और लोगों को काटते हुए निकल गई। ट्रेन को वहां से गुजरने में महज 10 से 15 सेकेंड लगे। ट्रेन के निकलते ही घायलों की चीख-पुकार मच गई। पटरी के दोनों ओर 150 मीटर के दायरे में शरीर के कटे अंग बिखरे थे।



रेल राज्य मंत्री मनोज सिन्हा शुक्रवार देर रात ही घटनास्थल पर पहुंच गए हैं। उन्होंने कहा कि रेलवे को रावण दहन कार्यक्रम की कोई जानकारी नहीं दी गई थी। घटना के बाद इस रूट की 8 ट्रेनें रद्द कर दी गईं हैं। 5 ट्रेनों को डायवर्ट कर दिया गया है, छोटी दूरी की 10 ट्रेनें को शॉर्ट टर्मिनेट कर दिया गया है जबकि 5 ट्रेनों को शॉर्ट ऑरिजिनेट किया गया है।

उधर केंद्रीय रेल मंत्री पीयूष गोयल अमेरिका दौरा बीच में छोड़कर देश लौट रहे हैं| मौके पर मौजूद लोगों ने बताया कि इस यह हादसा प्रशासन और दशहरा समिति के गलतियों का नतीजा है। जब ट्रेन आ रही थी, तब ट्रेन को हॉर्न बजाना चाहिए था। लोगों को अलार्म के जरिए ट्रेन के बारे बताया जाना चाहिए था। इससे लोग बच सकते थे। न के चपेट में आने से मृतकों का आंकड़ा बढ़ सकता है। घायलों को अस्पताल ले जाया जा रहा है।

अमृतसर के पुलिस कमिश्नर एसएस श्रीवास्तव का कहना है कि हम फिलहाल मौत का सही आंकड़ा नहीं बता सकते, लेकिन ये मृतकों की संख्या 50 से 60 तक हो सकती है। उत्तर रेलवे के CPRO ने बताया कि यह हादसा अमृतसर के मनावाला में गेट नंबर 27 बी/डब्ल्यू पर हुआ है। घटनास्थल पर दशहरा की वजह से लोगों की काफी भीड़ मौजूद थी। जब यह हादसा हुआ तो डीएमयू ट्रेन नंबर 74943 गुजर रही थी। इसी दौरान लोग गेट नंबर 27 की तरफ भागने लगे।



प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मृतक परिवार को दो लाख रुपये और घायलों को 50 हजार रुपये देने का ऐलान किया है। हादसे के बाद इंडो-तिब्बत बॉर्डर पुलिस और पंजाब पुलिस के जवान घटनास्थल पर पहुंच गए हैं। पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने हादसे के जांच के आदेश दे दिए हैं। ट्रेन हादसे के मद्देनजर पंजाब में कल राजकीय शोक घोषित किया गया जिसके तहत सभी कार्यालय और शिक्षण संस्थान बंद रहेंगे।


Loading...

You may also like