Lehren

बड़ा खुलासा ! मोहन भागवत को आतंकियों की सूची में डालना चाह रही थी यूपीए सरकार

यूपीए सरकार असीमानंद के कारवा पत्रिका में छपे एक इंटरव्यू को आधार मानकर आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत से पूछताछ कर उनका नाम आतंकी लिस्ट में डालने की योजना बना ली थी. असीमानंद ने अपने इंटरव्यू में मोहन भागवत को अपना प्रेरक बताया था.खुलासे में इस बात जिक्र भी किया गया है कि तात्कालीन गृहमंत्री सुशील कुमार शिंदे ने एनआईए पर इसे लेकर लगातार दवाब बना रहे थे.

मोहन भागवत बड़ा खुलासा ! मोहन भागवत को आतंकियों की सूची में डालना चाह रही थी यूपीए सरकार Source : Press

मानसून सत्र शुरू होने से पहले आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत को लेकर बड़ा खुलासा सामने आया है. एक दैनिक अंग्रेजी अखबार के खुलासे के मुताबित अजमेर और मालेगांव धमाके में स्वामी असीमानंद और साध्वी प्रज्ञा की गिरफ्तारी के बाद यूपीए हिंदू आतंकवाद के नाम पर कई बड़े प्लान बना रही थी. यूपीए सरकार असीमानंद के कारवा पत्रिका में छपे एक इंटरव्यू को आधार मानकर आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत से पूछताछ कर उनका नाम आतंकी लिस्ट में डालने की योजना बना ली थी. असीमानंद ने अपने इंटरव्यू में मोहन भागवत को अपना प्रेरक बताया था.खुलासे में इस बात जिक्र भी किया गया है कि तात्कालीन गृहमंत्री सुशील कुमार शिंदे ने एनआईए पर इसे लेकर लगातार दवाब बना रहे थे. पर एनआईए मुखिया ने ऐसा करने से मना कर दिया था. बाद में इस प्लान पर यूपीए सरकार अमल नहीं कर पाई. उम्मीद है कि इस खुलासे के बाद मानसून सत्र में सत्ता पक्ष और विपक्ष में इसे लेकर जरूर हंगामा होगा. इस खुलासे के बाद आप नेता आशुतोष ने सवाल उठाया है कि क्या भागवत कानून से ऊपर हैं. उनसे पूछताछ क्यों नहीं हो सकती.

You may also like